Saturday, February 22, 2020

what is blog in Hindi || blog meaning in Hindi




what is blog  in hindi




अगर आप online आर्टिकल Read  होंगे या तो लिखते होंगे तो आपने कई बार blog, और blogging  शब्द सुना होगा, तो इस आर्टिकल में हम इन् शब्द का मतलब समझेंगे और जानेंगे की इनका उपयोग कहा होता हे। 

Blog (ब्लॉग) 


Blog का मतलब हे की कोई व्यक्ति या little ग्रुप माहिती का आदान-प्रदान करने हेतु website web पे पब्लिश करता हे जिसे नियमित रूपसे update करता हे। 

अगर आप Knowledge को website को web द्वारा disperse करते हो जिसे आप नियमित दौर पर article लिखते हो तो उस web page को ब्लॉग कहा जाता हे। 

लोग blog कई हेतु से लिखते हे, जैसेकि माहिती प्रदान करने के लिए, किसी विषयमे जानकारी देने या article लिखने हेतु, पब्लिसिटी के लिए, NEWS, Internet के माध्यम से पैसे कमानेके लिए या bundle बनानेके लिए या फिर रेगुलर update करने के लिए। 



ब्लॉग कितने प्रकार के होते है? (Types Of Blog) 


Blog Basically three Types के होते है. 


1.Personal Blog.(व्यक्तिगत ब्लॉग।) 

2.Niche Blog.(आला ब्लॉग।) 

3.Company Blog.(कंपनी ब्लॉग।) 

सलिये हम अब इन प्रकार को बिस्तार से जानते है. 



1.Personal Blog(व्यक्तिगत ब्लॉग): 


 Individual Blog(व्यक्तिगत ब्लॉग) वो होता है जो लोग बिना किसी लक्स्य के ब्लॉग लिखते है(Like a Diary). लोग जैसे की इसमें Poem लिखते है ,कभी अपना Personal Experience लोगो के साथ Share करते है. देखा जाये तो इस तरह की ब्लॉग का कोई बजूद नही रहता है. 


काफी लोग इस तरह के Personal Blog को Start करते है और फिर Quit कर देते है क्युकी इस तरह की ब्लॉग बनाने का कोई फ़ायदा नही है. ये आपकी एक Personal Diary जैसे होते है. जो की ये Internet पे ये एक खुली किताब की तरह होता है. आज कॉल लोग Personal Blogging इतना नही करता है. क्युकी Social Media के आने के बाद लोग अपने बारे में Profile बनके वहां पे अपने बारे में Share करना पसंद करते है. 



2.Niche Blog(आला ब्लॉग): 


 दूसरा जो Type है वो है Niche ब्लॉग्गिंग. Claim to fame यानी की एक Topic जिसमे आप Interest हो. जैसे की देखा जाये तो Internet पर सब अलग सिजो के बारे में लेखते है Like Digital Marketing, Blogging, Technology, Health, Relationship, Fashion, Travel, Food ये सब एक Niche है. Essentially, कहा जाये तो आपके रुसी के जिस भी Topic पे आप ब्लॉग लिखते है उसको Niche Blogging काहा जाता है. |


3.Company Blog(कंपनी ब्लॉग।): 


कंपनी ब्लॉग को हम Corporate Blogging कहते है. Corporate Blogging का कोई Personal उदेस्य नही होता है. कोई भी Organization इसको अपने बुलितेन के रूप में इस्तेमाल करते है. कोई भी Organization या Company Corporate Blogging के जरिए अपने Targeted Audience के मदत हो उसके हिसाब से Content Share करते है. जिससे Ultimatelyउनकी कंपनी का फ़ायदा होता है.| 




क्या ब्लॉग बनाना फ्री है ? 


Yes, ये फ्री है यदि आप गूगल के टूल blogspot.com का उपयोग करते हैं तो… इसके जरिये आप ब्लॉग बना सकते हैं और उस पर पोस्ट कर सकते हैं साथ ही Google Adsense की सहायता से Ad भी शो कर सकते हैं ,और इसके लिए आपको एक भी रूपये नहीं देना होगा. |


लेकिन जब आप इसमें थोड़े पुराना हो जाते हैं तो आप कस्टम डोमेन लेंगे .. या फिर अपने ब्लॉग के लिए अलग से होस्टिंग लेकर वर्डप्रेस पर आयेंगे तो आपको निश्चित रूप से इसके लिए पैसे खर्च करने होंगे. 

कुछ महत्वपूर्ण ब्लॉगर सर्विस निम्न है जो ब्लॉग बनाने की सुविधाएँ प्रदान करती है :- 


WordPress 

2.Blogger 

3.Tumblr 

4.Medium 

5.Quora 

ब्लॉग्गिंग शुरू करने से पहले ये 5 बातें ज़रूर जान लें (Five Must-Knows Before You Start Blogging) :


English Keyboard से Hindi में कैसे Type करें ? 


AdSense चाहिए? तैयार हो जाइए ! The best strategy to get AdSense in Hindi .


ब्लॉग्गिंग से क्या फायदे हैं ? 


इसके बहुत सारे फायदे हैं जो हर व्यक्ति के लिए अलग हो सकता है-


ऑनलाइन कमाई

  ये सबसे बड़ा कारन है ब्लॉग्गिंग में आने का जैसा कि मैंने ऊपर बताया है.. इसका मतलब ये नहीं है सभी लोग सिर्फ पैसे के कारण ही ब्लॉग्गिंग करते हैं. 

नयी चीजें सीखना : 

जब आप ब्लॉग्गिंग करते हैं तो किसी टॉपिक पर लिखते हैं. और ऐसा कोई भी व्यक्ति नहीं है जो पहले से ही सब कुछ जानता है ऐसे में उसे उस टॉपिक पर लिखने के लिए रिसर्च करना होता है और उसके बारे में जानकारी लेनी होती. इस प्रकार वो नयी चीजें सीखता रहता है. 

बेहतर लिखने की कला : 


जब कोई इसकी शुरुआत करता है तो वो सोचता है कि क्या लिखूं या क्या नहीं लिखूं लेकिन जैसे वो इस क्षेत्र में पूराना होता जाता है वो इसमें सुधार करते जाता है और फिर उसकी ये कला काफी अच्छी हो जाती है. | 


सब्र रखना : 

जब आप ब्लॉग बनाते हैं तो आप पहले ही दिन से कमाने नहीं लगते हैं ऐसे में आपको सब्र रखना होगा और हार्ड वर्क करते रहना होगा. आपके ब्लॉग पर ट्रैफिक आना चाहिए… . गूगल adsense का अप्रूवल मिलना चाहिए. 

टेक्निकल सीखना : 

जब आपका अपना ब्लॉग होगा तो छोटी मोटी परेशानियाँ आती रहेगी ऐसे में जरुरी है कि आप अपने ब्लॉग के एडिटिंग और डिजाइनिंग जैसी बातें हमेशा सीखते रहें|


तो इस तरह मैं आप सभी को इस पोस्ट में बताया कि ब्लॉग्गिंग क्या है और इसके अलावे ब्लॉग्गिंग से संबंधित ढेर सारी जानकारी मैंने आप सभी को दी. इसके अलावे भी यदि आप कुछ जानना चाहते है

No comments:

Post a Comment